noImage

सय्यदा अरशिया हक़

1990 | सिडनी, ऑस्ट्रेलिया

सय्यदा अरशिया हक़

ग़ज़ल 3

 

अशआर 16

औरत हो तुम तो तुम पे मुनासिब है चुप रहो

ये बोल ख़ानदान की इज़्ज़त पे हर्फ़ है

  • शेयर कीजिए

तुम भी आख़िर हो मर्द क्या जानो

एक औरत का दर्द क्या जानो

  • शेयर कीजिए

ख़बर कर दे कोई उस बे-ख़बर को

मिरी हालत बिगड़ती जा रही है

  • शेयर कीजिए

सब यहाँ 'जौन' के दिवाने हैं

'हक़' कहो कौन तुम को चाहेगा

  • शेयर कीजिए

यही दुआ है वो मेरी दुआ नहीं सुनता

ख़ुदा जो होता अगर क्या ख़ुदा नहीं सुनता

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 5

 

"सिडनी" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए