हैदराबाद के शायर और अदीब

कुल: 290

उर्दू के सबसे लोकप्रिय शायरों में शामिल। शायरी में चुस्ती , शोख़ी और मुहावरों के इस्तेमाल के लिए प्रसिद्ध

उर्दू दीवान संकलित करने वाले पहले शायर/दक्षिणी भारत की क़ुतुब शाही के बादशाह

दाग़ देहलवी के समकालीन। अपनी ग़ज़ल ' सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता ' के लिए प्रसिद्ध हैं।

अग्रणी पूर्व-आधुनिक शायरों में शामिल, शायरी के उदास रंग के लिए विख्यात।

सबसे लोकप्रिय उत्तर क्लासिकी शायरों में प्रमुख/अमीर मीनाई के शार्गिद/दाग़ देहलवी के बाद हैदराबाद के राज-कवि

महत्वपूर्ण प्रगतिशील शायर। उनकी कुछ ग़ज़लें ' बाज़ार ' और ' गमन ' , जैसी फिल्मों से मशहूर

आधुनिक उर्दू गद्य के प्रथम पंक्ति के लिखने वालों में शामिल. इनके लेखन ने उर्दू में अफ़्सानानिगारी के रूझान को परवान चढ़ाया. ‘मुसव्विर-ए-ग़म’ के रूप में जाने जाते हैं.

अनुवादक, कथाकार और शायर, अपनी किताब फ़साना-ए-आज़ाद के लिए मशहूर

हैदराबाद के प्रसिद्ध शायर

उर्दू शायरी को परम्परा निर्माण करने वाले अग्रणी शायरों में शामिल

हैदराबाद के प्रसिद्ध शायर,जोश के समकालीन, दोनों के मध्य समकालिक नोक झोंक भी रही. अपनी लम्बी नज़्म ‘कौल फैसल’ के लिए प्रसिद्ध

प्रमुखतम प्रगतीशील शायरों में शामिल / अपनी भावनात्मक तीक्षणता के लिए विख्यात

उर्दू की प्रथम महिला कथा-लेखिकाओं में शामिल, रूमानी अंदाज़ के कहानी-लेखन के लिए मशहूर।

नई ग़ज़ल के महत्वपूर्ण शायर

प्रमुख आलोचक / पत्रिका ‘शेर-ओ-हिक्मत’ के संपादक थे

नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

मक़बूल पाकिस्तानी धारावाहिक हमसफ़र के टाइटल गीत और ग़ज़ल “ वो हमसफ़र था मगर…” के प्रसिद्ध शायर

आधुनिक साहित्य के संस्थापक पत्रिका के संपादक।

शायर और आलोचक, जलील मानकपुरी के सुपुत्र

अपने नौहों और कर्बला के परिदृश्य में लिखी गई नज़्मों और क़तात के लिए जाने जाते हैं

अल्ताफ़ हुसैन हाली के प्रमुख शिष्य

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए