मेरठ के शायर और अदीब

कुल: 68

पाकिस्तानी शायरा। अपने स्त्री-वादी और संस्था-विरोधी विचारों के लिए प्रसिद्ध

बच्चों की शायरी के लिए प्रसिद्ध

लखनऊ के लोकप्रिय शायर और विद्वान, दाग़ और नातिक़ गुलावठी के शागिर्द. ग़ालिब और हाफ़िज़ के कलम की व्याख्यान की और अनुवाद किया. इसके अलावा उर्दू की क़दीम शायरात (प्राचीन कवयित्रियों) का तज़्किरा भी सम्पादित किया

प्रख्यात शायर,लेखक, बच्चों की शायरी के लिए प्रसिद्ध

शायर व आलोचक, इकबाल के चिन्तन और उनके फ़न पर अपनी आलोचनात्मक किताब के लिए प्रसिद्ध

सामाजिक असंतुलन, ग़रीबी और असमानता जैसी समस्याओं को शायरी का विषय बनानेवाले शायर

लोकप्रिय शायर, अपने शेर 'शीशा टूटे ग़ुल मच जाए…' के लिए मशहूर।

जिगर के समकालीन , मसनवी " प्याम-ए-सावित्री" के लिए मशहूर, हदीस-ए-ख़ुदी के शीर्षक से आत्मकथा प्रकाशित

डी टी सी ट्रैफिक इंस्पेक्टर,ग़ज़लों और क़ितआत के लिए मशहूर

बीबीसी, उर्दू सर्विस से संबंधित रहे, एमसीआरसी, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, नई दिल्ली के डायरेक्टर।

भारत की अग्रणी शायरात में विख्यात।

मुशायरों के लोकप्रिय शायर

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायर,क्लासिकी रंग की शायरी के लिए प्रसिद्ध

पूर्वाधुनिक शायर, क्लासिकी रंग में ग़ज़लें कहीं. मासिक ‘शमा’ से सम्बद्ध रहे, बच्चों के लिए लिखी गई नज़्मों का एक संग्रह भी प्रकाशित हुआ

हिन्दुस्तान की नई पीढ़ी के मशहूर शायर

भारत की अग्रणी शायरात में विख्यात।

चर्चित शायर, ग़ज़लों के साथ अपने माहियों और गीतों के लिए भी पहचाने जाते हैं. ‘अज शिकारे में’ नाम से कश्मीर का छंदोबद इतिहास भी लिखा

कवि, कथाकार और अनुवादक

प्रसिद्ध उत्तर आधुनिक कथाकार, मुंबई शहर की कहानियां लिखने के लिए मशहूर

अफ़्सानानिगार,चौधरी चरणसिंह यूनिवर्सिटी से सम्बद्ध उर्दू के शिक्षक।

सीमाब अकबराबादी के शागिर्द, नज़्मों और ग़ज़लों के कई संग्रह प्रकाशित हुए

दाग़ के समकालीन, उर्दू और फ़ारसी में शायरी की, आधुनिक शायरी के आंदोलन से प्रभावित होकर नये अंदाज़ की नज़्में भी लिखीं

हास्य-व्यंग्य के नामचीन शायर, अत्यंत लोकप्रिय, सादा और सरल भाषा में खूबसूरत हास्य ग़ज़लें कहीं

बोलिए