noImage

हयात लखनवी

1931 - 2006 | लखनऊ, भारत

हयात लखनवी

ग़ज़ल 9

अशआर 7

ये इल्तिजा दुआ ये तमन्ना फ़ुज़ूल है

सूखी नदी के पास समुंदर जाएगा

अब दिलों में कोई गुंजाइश नहीं मिलती 'हयात'

बस किताबों में लिक्खा हर्फ़-ए-वफ़ा रह जाएगा

चेहरे को तेरे देख के ख़ामोश हो गया

ऐसा नहीं सवाल तिरा ला-जवाब था

  • शेयर कीजिए

सिलसिला ख़्वाबों का सब यूँही धरा रह जाएगा

एक दिन बिस्तर पे कोई जागता रह जाएगा

ये जज़्बा-ए-तलब तो मिरा मर जाएगा

तुम भी अगर मिलोगे तो जी भर जाएगा

पुस्तकें 5

 

चित्र शायरी 1

 

संबंधित लेखक

"लखनऊ" के और लेखक

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए