noImage

आरिफ़ुद्दीन आजिज़

- 1763

आरिफ़ुद्दीन आजिज़

ग़ज़ल 1

 

अशआर 1

देख दामन-गीर महशर में तिरे होवेंगे हम

ख़ूँ हमारा अपने दामन से क़ातिल छुड़ा

  • शेयर कीजिए
 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए