अदील ज़ैदी

ग़ज़ल 21

शेर 26

दे हौसले की दाद के हम तेरे ग़म में आज

बैठे हैं महफ़िलों को सजाए तिरे बग़ैर

  • शेयर कीजिए

मैं इस से क़ीमती शय कोई खो नहीं सकता

'अदील' माँ की जगह कोई हो नहीं सकता

  • शेयर कीजिए

कहाँ के माहिर-ओ-कामिल हो तुम हुनर में 'अदील'

तुम्हारे काम तो पर्वरदिगार करता है

  • शेयर कीजिए

तुझ से जुदा हुए तो ये हो जाएँगे जुदा

बाक़ी कहाँ रहेंगे ये साए तिरे बग़ैर

  • शेयर कीजिए

मिरा दिल टूट जाने पर मियाँ हैरत भला कैसी

अगर रस्ता बदल जाए सितारे टूट जाते हैं

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 1

 

पुस्तकें 8

Azan-e-Majlis

 

2008

Bayaz-e-Akhtar

 

2009

Chalte Chalte

 

2001

Kahan Aa Gaye Ham

 

2009

Motabar Na-Motabar

 

2008

Qarz-e-Jan

 

2021

Qarz-e-Jan

 

2021

शायर

Shumara Number-011

2009

 

चित्र शायरी 1

दे हौसले की दाद के हम तेरे ग़म में आज बैठे हैं महफ़िलों को सजाए तिरे बग़ैर

 

वीडियो 16

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

अदील ज़ैदी

क़र्ज़-ए-जाँ से निमट रही है हयात

अदील ज़ैदी

दुकान-दार

ये ताजिरान-ए-दीन हैं अदील ज़ैदी

संबंधित शायर

  • सय्यद अख़्तर रज़ा ज़ैदी सय्यद अख़्तर रज़ा ज़ैदी पिता