अहमद शनास

ग़ज़ल 17

अशआर 28

जानकारी खेल लफ़्ज़ों का ज़बाँ का शोर है

जो बहुत कम जानता है वो यहाँ शह-ज़ोर है

  • शेयर कीजिए

फूल बाहर है कि अंदर है मिरे सीने में

चाँद रौशन है कि मैं आप ही ताबिंदा हूँ

  • शेयर कीजिए

एक बच्चा ज़ेहन से पैसा कमाने की मशीन

दूसरा कमज़ोर था सो यर्ग़माली हो गया

  • शेयर कीजिए

लफ़्ज़ों की दस्तरस में मुकम्मल नहीं हूँ मैं

लिक्खी हुई किताब के बाहर भी सुन मुझे

  • शेयर कीजिए

रफ़्ता रफ़्ता लफ़्ज़ गूँगे हो गए

और गहरी हो गईं ख़ामोशियाँ

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

 

"जम्मू" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए