aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

अहमक़ फफूँदवी

1895 - 1957 | इटावा, भारत

हास्य और व्यंग्य के शायर

हास्य और व्यंग्य के शायर

अहमक़ फफूँदवी की नज़्में

608
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए