Akbar Allahabadi's Photo'

अकबर इलाहाबादी

1846 - 1921 | इलाहाबाद, भारत

उर्दू में हास्य-व्यंग के सबसे बड़े शायर , इलाहाबाद में सेशन जज थे।

उर्दू में हास्य-व्यंग के सबसे बड़े शायर , इलाहाबाद में सेशन जज थे।

अकबर इलाहाबादी

ग़ज़ल 73

नज़्म 8

शेर 136

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम

वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता

इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद

अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता

  • शेयर कीजिए

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ

बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ

  • शेयर कीजिए

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना

हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना

  • शेयर कीजिए

जो कहा मैं ने कि प्यार आता है मुझ को तुम पर

हँस के कहने लगा और आप को आता क्या है

  • शेयर कीजिए

हास्य 3

 

क़ितआ 17

रुबाई 53

क़िस्सा 8

पुस्तकें 61

चित्र शायरी 15

वीडियो 10

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
kahen kisse kissa e dard o gham

नय्यरा नूर

आम-नामा

नामा न कोई यार का पैग़ाम भेजिए Urdu Studio

आह जो दिल से निकाली जाएगी

अज्ञात

ग़म्ज़ा नहीं होता कि इशारा नहीं होता

अज्ञात

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ

अकबर इलाहाबादी

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ

कुंदन लाल सहगल

दिल मिरा जिस से बहलता कोई ऐसा न मिला

अज्ञात

बर्क़-ए-कलीसा

अज्ञात

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है

मंजरी

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है

रंजीत रजवाड़ा

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है

अकबर इलाहाबादी

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है

अमानत अली ख़ान

ऑडियो 21

आँखें मुझे तलवों से वो मलने नहीं देते

ख़त्म किया सबा ने रक़्स गुल पे निसार हो चुकी

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित शायर

"इलाहाबाद" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI