Amjad Islam Amjad's Photo'

अमजद इस्लाम अमजद

1944 | लाहौर, पाकिस्तान

मशहूर शायर और पाकिस्तानी टीवी सीरियलों के प्रसिद्ध लेखक

मशहूर शायर और पाकिस्तानी टीवी सीरियलों के प्रसिद्ध लेखक

अमजद इस्लाम अमजद

ग़ज़ल 62

नज़्म 39

अशआर 62

जिस तरफ़ तू है उधर होंगी सभी की नज़रें

ईद के चाँद का दीदार बहाना ही सही

  • शेयर कीजिए

कहाँ के रुकने थे रास्ते कहाँ मोड़ था उसे भूल जा

वो जो मिल गया उसे याद रख जो नहीं मिला उसे भूल जा

बड़े सुकून से डूबे थे डूबने वाले

जो साहिलों पे खड़े थे बहुत पुकारे भी

लिखा था एक तख़्ती पर कोई भी फूल मत तोड़े मगर आँधी तो अन-पढ़ थी

सो जब वो बाग़ से गुज़री कोई उखड़ा कोई टूटा ख़िज़ाँ के आख़िरी दिन थे

वो तिरे नसीब की बारिशें किसी और छत पे बरस गईं

दिल-ए-बे-ख़बर मिरी बात सुन उसे भूल जा उसे भूल जा

क़ितआ 3

 

पुस्तकें 35

वीडियो 17

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

अमजद इस्लाम अमजद

Afsoon-e-intezar-e-tamanna hai aur kya

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio अमजद इस्लाम अमजद

Nazm " Ham log na the aise"

अमजद इस्लाम अमजद

Ojhal sahi nigaah se dooba nahi hu main

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio अमजद इस्लाम अमजद

Tumhe Mujhse mohabbat hai

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio. अमजद इस्लाम अमजद

Zara si baat

Amjad Islam Amjad is an Urdu Poet, Drama writer and lyricist from Pakistan. He has received many awards for his literary work and screenplay for TV, including pride of performance and Sitara-e-Imtiaz. Amjad Islam Amjad reciting his ghazal/nazm ar Rekhta Studio अमजद इस्लाम अमजद

कहाँ आ के रुकने थे रास्ते कहाँ मोड़ था उसे भूल जा

अमजद इस्लाम अमजद

ज़रा सी बात

ज़िंदगी के मैले में ख़्वाहिशों के रेले में अमजद इस्लाम अमजद

ज़रा सी बात

ज़िंदगी के मैले में ख़्वाहिशों के रेले में अमजद इस्लाम अमजद

जैसे मैं देखता हूँ लोग नहीं देखते हैं

अमजद इस्लाम अमजद

दिल के दरिया को किसी रोज़ उतर जाना है

अमजद इस्लाम अमजद

मोहब्बत की एक नज़्म

मोहब्बत की एक नज़्म अमजद इस्लाम अमजद

सेल्फ़ मेड लोगों का अलमिया

सेल्फ़ मेड लोगों का अलमिया अमजद इस्लाम अमजद

ऑडियो 13

अपने घर की खिड़की से मैं आसमान को देखूँगा

आईनों में अक्स न हों तो हैरत रहती है

उस ने आहिस्ता से जब पुकारा मुझे

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

"लाहौर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए