असद मुल्तानी

ग़ज़ल 3

 

अशआर 3

शराब बंद हो साक़ी के बस की बात नहीं

तमाम शहर है दो चार दस की बात नहीं

  • शेयर कीजिए

असरार अगर समझे दुनिया की हर इक शय के

ख़ुद अपनी हक़ीक़त से ये बे-ख़बरी क्यूँ है

रहें रिंद ये ज़ाहिद के बस की बात नहीं

तमाम शहर है दो-चार दस की बात नहीं

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 2

 

"रावलपिंडी" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए