Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

बेताब अज़ीमाबादी

1866 - 1928 | पटना, भारत

शाद अज़ीमाबादी के प्रिय शागिर्दों में शामिल

शाद अज़ीमाबादी के प्रिय शागिर्दों में शामिल

बेताब अज़ीमाबादी

ग़ज़ल 12

अशआर 4

असर पूछिए साक़ी की मस्त आँखों का

ये देखिए कि कोई होश्यार बाक़ी है

  • शेयर कीजिए

तड़प के रह गई बुलबुल क़फ़स में सय्याद

ये क्या कहा कि अभी तक बहार बाक़ी है

  • शेयर कीजिए

कितने इल्ज़ाम आख़िर अपने सर

तुम ने ग़ैरों को सर चढ़ा के लिए

  • शेयर कीजिए

लड़ गई उन से नज़र खिंच गए अबरू उन के

माअ'रके इश्क़ के अब तीर-ओ-कमाँ तक पहुँचे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

चित्र शायरी 1

 

"पटना" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए