noImage

हबीब मूसवी

हबीब मूसवी

ग़ज़ल 30

अशआर 39

दिल लिया है तो ख़ुदा के लिए कह दो साहब

मुस्कुराते हो तुम्हीं पर मिरा शक जाता है

  • शेयर कीजिए

मय-कदा है शैख़ साहब ये कोई मस्जिद नहीं

आप शायद आए हैं रिंदों के बहकाए हुए

  • शेयर कीजिए

गुलों का दौर है बुलबुल मज़े बहार में लूट

ख़िज़ाँ मचाएगी आते ही इस दयार में लूट

  • शेयर कीजिए

क़दमों पे डर के रख दिया सर ताकि उठ जाएँ

नाराज़ दिल-लगी में जो वो इक ज़रा हुए

  • शेयर कीजिए

मय-कदे को जा के देख आऊँ ये हसरत दिल में है

ज़ाहिद उस मिट्टी की उल्फ़त मेरी आब-ओ-गिल में है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

 

चित्र शायरी 1

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए