aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
noImage

हीरानंद सोज़

1922 - 2002 | फरीदाबाद, भारत

हीरानंद सोज़

ग़ज़ल 6

अशआर 3

अपने घरों के कर दिए आँगन लहू लहू

हर शख़्स मेरे शहर का क़ाबील हो गया

अजीब हाल था अहद-ए-शबाब में दिल का

मुझे गुनाह भी कार-ए-सवाब लगता था

  • शेयर कीजिए

जनाज़े वालो चुपके क़दम बढ़ाए चलो

उसी का कूचे है टुक करते हाए हाए चलो

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 9

 

चित्र शायरी 1

 

"फरीदाबाद" के और शायर

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए