noImage

इम्तियाज़ साग़र

पाकिस्तान

इम्तियाज़ साग़र

ग़ज़ल 13

शेर 3

होगा बहुत शदीद तमाज़त का इंतिक़ाम

साए से मिल के रोएगी दीवार देखना

उसी दरख़्त को मौसम ने बे-लिबास किया

मैं जिस के साए में थक कर उदास बैठा था

हैं घर की मुहाफ़िज़ मिरी दहकी हुई आँखें

मैं ताक़ में रख आया हूँ जलती हुई आँखें

 

पुस्तकें 1

Sehra Ki Hawa

 

1995