इसहाक़ विरदग

ग़ज़ल 15

अशआर 4

बाज़ार हैं ख़ामोश तो गलियों पे है सकता

अब शहर में तन्हाई का डर बोल रहा है

  • शेयर कीजिए

ऐसी तरक़्क़ी पर तो रोना बनता है

जिस में दहशत-गर्द क्रोना बनता है

  • शेयर कीजिए

किसी की याद मनाने में ईद गुज़रेगी

सो शहर-ए-दिल में बहुत दूर तक उदासी है

  • शेयर कीजिए

ख़ैरात में दे आया हूँ जीती हुई बाज़ी

दुनिया ये समझती है कि मैं हार गया हूँ

  • शेयर कीजिए

संबंधित ब्लॉग

 

"पेशावर" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए