Jamal Ehsani's Photo'

जमाल एहसानी

1951 - 1998 | कराची, पाकिस्तान

सबसे महत्वपूर्ण उत्तर-आधुनिक पाकिस्तानी शायरों में से एक, अपने विशीष्ट काव्य अनुभव के लिए विख्यात।

सबसे महत्वपूर्ण उत्तर-आधुनिक पाकिस्तानी शायरों में से एक, अपने विशीष्ट काव्य अनुभव के लिए विख्यात।

जमाल एहसानी

ग़ज़ल 45

शेर 27

याद रखना ही मोहब्बत में नहीं है सब कुछ

भूल जाना भी बड़ी बात हुआ करती है

उस ने बारिश में भी खिड़की खोल के देखा नहीं

भीगने वालों को कल क्या क्या परेशानी हुई

क़रार दिल को सदा जिस के नाम से आया

वो आया भी तो किसी और काम से आया

तमाम रात नहाया था शहर बारिश में

वो रंग उतर ही गए जो उतरने वाले थे

'जमाल' हर शहर से है प्यारा वो शहर मुझ को

जहाँ से देखा था पहली बार आसमान मैं ने

पुस्तकें 2

 

चित्र शायरी 12

वीडियो 13

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

जमाल एहसानी

जमाल एहसानी

जमाल एहसानी

जमाल एहसानी

जमाल एहसानी

जमाल एहसानी

Jamal Ehsani reciting at a mushaira

जमाल एहसानी

जमाल एहसानी

एक फ़क़ीर चला जाता है पक्की सड़क पर गाँव की

जमाल एहसानी

किसी भी दश्त किसी भी नगर चला जाता

जमाल एहसानी

चराग़ सामने वाले मकान में भी न था

जमाल एहसानी

वो लोग मेरे बहुत प्यार करने वाले थे

जमाल एहसानी

संबंधित शायर

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI