aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Kaifi Hyderabadi's Photo'

कैफ़ी हैदराबादी

1880 - 1920

कैफ़ी हैदराबादी

ग़ज़ल 6

नज़्म 2

 

अशआर 12

सुब्ह को खुल जाएगा दोनों में क्या याराना है

शम्अ परवाना की है या शम्अ का परवाना है

  • शेयर कीजिए

मोहब्बत में क्या क्या कुछ जौर होगा

अभी क्या हुआ है अभी और होगा

  • शेयर कीजिए

हम आप को देखते थे पहले

अब आप की राह देखते हैं

  • शेयर कीजिए

वो अब क्या ख़ाक आए हाए क़िस्मत में तरसना था

तुझे अब्र-ए-रहमत आज ही इतना बरसना था

  • शेयर कीजिए

वही नज़र में है लेकिन नज़र नहीं आता

समझ रहा हूँ समझ में मगर नहीं आता

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 6

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए