Khalid Hasan Qadiri's Photo'

ख़ालिद हसन क़ादिरी

1927 - 2012 | लंदन, यूनाइटेड किंगडम

ख़ालिद हसन क़ादिरी

ग़ज़ल 8

शेर 8

बहुत हैं सज्दा-गाहें पर दर-ए-जानाँ नहीं मिलता

हज़ारों देवता हैं हर तरफ़ इंसाँ नहीं मिलता

  • शेयर कीजिए

घुटन तो दिल की रही क़स्र-ए-मरमरीं में भी

रौशनी से हुआ कुछ कुछ हवा से हुआ

  • शेयर कीजिए

आए तुम आओ तुम कि अब आने से क्या हासिल

ख़ुद अब तो हम से अपनी शक्ल पहचानी नहीं जाती

  • शेयर कीजिए

मिरी जाँ तेरी ख़ातिर जाँ का सौदा

बहुत महँगा भी है दुश्वार भी है

  • शेयर कीजिए

तुम्हारे नाम पे दिल अब भी रुक सा जाता है

ये बात वो है कि इस से मफ़र नहीं होता

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 23

संबंधित शायर

"लंदन" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI