Khwaja Mohammad Wazir's Photo'

ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर

1795 - 1854 | लखनऊ, भारत

19 वीं सदी के शायर

19 वीं सदी के शायर

ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर

ग़ज़ल 31

अशआर 65

देखना हसरत-ए-दीदार इसे कहते हैं

फिर गया मुँह तिरी जानिब दम-ए-मुर्दन अपना

  • शेयर कीजिए

है साया चाँदनी और चाँद मुखड़ा

दुपट्टा आसमान-ए-आसमाँ है

  • शेयर कीजिए

जिस को आते देखता हूँ परी कहता हूँ मैं

आदमी भेजा हो मेरे बुलाने के लिए

  • शेयर कीजिए

आया है मिरे दिल का ग़ुबार आँसुओं के साथ

लो अब तो हुई मालिक-ए-ख़ुश्की-ओ-तरी आँख

  • शेयर कीजिए

जब ख़फ़ा होता है तो यूँ दिल को समझाता हूँ मैं

आज है ना-मेहरबाँ कल मेहरबाँ हो जाएगा

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 5

 

चित्र शायरी 1

 

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए