Krishn Adeeb's Photo'

कृष्ण अदीब

1915 - 1999

कृष्ण अदीब

ग़ज़ल 7

अशआर 3

धीमा धीमा दर्द सुहाना हम को अच्छा लगता था

दुखते जी को और दुखाना हम को अच्छा लगता था

शो-केस में रक्खा हुआ औरत का जो बुत है

गूँगा ही सही फिर भी दिल-आवेज़ बहुत है

पुश्त पर क़ातिल का ख़ंजर सामने अंधा कुआँ

बच के जाऊँ किस तरफ़ अब रास्ता कोई नहीं

  • शेयर कीजिए
 

चित्र शायरी 1

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए