Kunwar Mahendra Singh Bedi Sahar's Photo'

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

1909 - 1992 | दिल्ली, भारत

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

ग़ज़ल 53

नज़्म 3

 

अशआर 14

मुस्कुराना कभी रास आया

हर हँसी एक वारदात बनी

  • शेयर कीजिए

आएँ हैं समझाने लोग

हैं कितने दीवाने लोग

  • शेयर कीजिए

उठा सुराही ये शीशा वो जाम ले साक़ी

फिर इस के बाद ख़ुदा का भी नाम ले साक़ी

  • शेयर कीजिए

मरना तो लाज़िम है इक दिन जी भर के अब जी तो लूँ

मरने से पहले मर जाना मेरे बस की बात नहीं

शोख़ी शबाब हुस्न तबस्सुम हया के साथ

दिल ले लिया है आप ने किस किस अदा के साथ

क़िस्सा 12

पुस्तकें 14

चित्र शायरी 2

 

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

At a mushaira

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

Emirates Mushaira

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

Phir chale baad-e-bahaari phir chale baad-e-muraad

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

Rashke shadd arshe

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

ऑडियो 5

इन शोख़ हसीनों की निराली है अदा भी

ख़िज़ाँ में भी बहार-ए-जावेदाँ मालूम होती है

तक़दीर के लिखे से सिवा बन गए हैं हम

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI