Mahtab Alam's Photo'

महताब आलम

1972 | भोपाल, भारत

महताब आलम

ग़ज़ल 8

अशआर 14

दिल भी तोड़ा तो सलीक़े से तोड़ा तुम ने

बेवफ़ाई के भी आदाब हुआ करते हैं

  • शेयर कीजिए

वतन को फूँक रहे हैं बहुत से अहल-ए-वतन

चराग़ घर के हैं सरगर्म घर जलाने में

  • शेयर कीजिए

तुम ज़माने के हो हमारे सिवा

हम किसी के नहीं तुम्हारे हैं

  • शेयर कीजिए

उस को आवाज़ दो मोहब्बत से

उस के सब नाम प्यारे प्यारे हैं

  • शेयर कीजिए

ये सन कर मेरी नींदें उड़ गई हैं

कोई मेरा भी सपना देखता है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

 

चित्र शायरी 1

 

"भोपाल" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए