Malikzaada Manzoor Ahmad's Photo'

मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

1929 - 2016 | लखनऊ, भारत

उर्दू के प्रमुख साहित्यिक व्यक्तित्व/मुशायरों के स्तरीय संचालन के लिए प्रसिद्ध

उर्दू के प्रमुख साहित्यिक व्यक्तित्व/मुशायरों के स्तरीय संचालन के लिए प्रसिद्ध

मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

ग़ज़ल 19

नज़्म 1

 

अशआर 23

चेहरे पे सारे शहर के गर्द-ए-मलाल है

जो दिल का हाल है वही दिल्ली का हाल है

देखोगे तो हर मोड़ पे मिल जाएँगी लाशें

ढूँडोगे तो इस शहर में क़ातिल मिलेगा

  • शेयर कीजिए

ख़्वाब का रिश्ता हक़ीक़त से जोड़ा जाए

आईना है इसे पत्थर से तोड़ा जाए

दरिया के तलातुम से तो बच सकती है कश्ती

कश्ती में तलातुम हो तो साहिल मिलेगा

  • शेयर कीजिए

कुछ ग़म-ए-जानाँ कुछ ग़म-ए-दौराँ दोनों मेरी ज़ात के नाम

एक ग़ज़ल मंसूब है उस से एक ग़ज़ल हालात के नाम

पुस्तकें 35

चित्र शायरी 1

 

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
khuda kare ke jo aaye hamare baad wo log hamare fan ki

Malikzada Manzoor Ahmed Born on 17th Oct,1929, in Bhidhunpur, Malikzada Manzoor showed his literary talent at an early age. He acquired PG degree in Urdu & English and later did Ph.D in Urdu literature. He is extremely good at recitation and has recited many ghazals/nazams at mushairas and such other literary functions. Malikzada Manzoor retired as professor, department of Urdu, Lucknow University. He is the author of several books and had also worked as an editor 'Imkaan" (monthly Urdu literary Journal from Lucknow). मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

कुछ ग़म-ए-जानाँ कुछ ग़म-ए-दौराँ दोनों मेरी ज़ात के नाम

मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

ज़िंदगी में पहले इतनी तो परेशानी न थी

मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

तर्क-ए-मोहब्बत अपनी ख़ता हो ऐसा भी हो सकता है

मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

न ख़ौफ़-ए-बर्क़ न ख़ौफ़-ए-शरर लगे है मुझे

मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

मामूल पे साहिल रहता है फ़ितरत पे समुंदर होता है

मलिकज़ादा मंज़ूर अहमद

ऑडियो 6

कुछ ग़म-ए-जानाँ कुछ ग़म-ए-दौराँ दोनों मेरी ज़ात के नाम

ज़िंदगी में पहले इतनी तो परेशानी न थी

तर्क-ए-मोहब्बत अपनी ख़ता हो ऐसा भी हो सकता है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए