noImage

मीर मोहम्मदी बेदार

1732/3 - 1797

मीर मोहम्मदी बेदार

ग़ज़ल 96

अशआर 45

बाप का है फ़ख़्र वो बेटा कि रखता हो कमाल

देख आईने को फ़रज़ंद-ए-रशीद-ए-संग है

आह क़ासिद तो अब तलक फिरा

दिल धड़कता है क्या हुआ होगा

हैं तसव्वुर में उस के आँखें बंद

लोग जानें हैं ख़्वाब करता हूँ

  • शेयर कीजिए

ख़ुशी है सब को रोज़-ए-ईद की याँ

हुए हैं मिल के बाहम आश्ना ख़ुश

हम पे सौ ज़ुल्म-ओ-सितम कीजिएगा

एक मिलने को कम कीजिएगा

पुस्तकें 2

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए