aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Mohammad Asadullah's Photo'

मोहम्मद असदुल्लाह

1958 | नागपुर, भारत

मोहम्मद असदुल्लाह

ग़ज़ल 22

नज़्म 22

अशआर 4

इक दनदनाती रेल सी उम्रें गुज़र गईं

दो पटरियों के बीच वही फ़ासले रहे

महक उठी है फ़ज़ा पैरहन की ख़ुशबू से

चमन दिलों का खिलाने को ईद आई है

  • शेयर कीजिए

जाते बरस तुझ को सौंपा ख़ुदा को

मुबारक मुबारक नया साल सब को

  • शेयर कीजिए

आब-दीदा हूँ मैं ख़ुद ज़ख़्म-ए-जिगर से अपने

तेरी आँखों में छुपा दर्द कहाँ से देखूँ

बच्चों की कहानी 7

पुस्तकें 23

चित्र शायरी 2

 

"नागपुर" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए