Neelma Naheed Durrani's Photo'

नीलमा नाहीद दुर्रानी

1955

नीलमा नाहीद दुर्रानी

ग़ज़ल 20

नज़्म 6

अशआर 2

औरत अपना आप बचाए तब भी मुजरिम होती है

औरत अपना आप गँवाए तब भी मुजरिम होती है

  • शेयर कीजिए

कोई तो आए ख़िज़ाँ में पत्ते उगाने वाला

गुलों की ख़ुशबू को क़ैद करना कोई तो सीखे

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 3

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए