noImage

उबैदुर्रहमान आज़मी

आज़मगढ़, भारत

उबैदुर्रहमान आज़मी

नज़्म 1

 

अशआर 1

फ़लक से मुझ को शिकवा है ज़मीं से मुझ को शिकवा है

यक़ीं मानो तो ख़ुद अपने यक़ीं से मुझ को शिकवा है

  • शेयर कीजिए
 

"आज़मगढ़" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए