Qabil Ajmeri's Photo'

क़ाबिल अजमेरी

1931 - 1962 | हैदराबाद, पाकिस्तान

क़ाबिल अजमेरी

ग़ज़ल 21

अशआर 30

रास्ता है कि कटता जाता है

फ़ासला है कि कम नहीं होता

  • शेयर कीजिए

वक़्त करता है परवरिश बरसों

हादिसा एक दम नहीं होता

  • शेयर कीजिए

रंग-ए-महफ़िल चाहता है इक मुकम्मल इंक़लाब

चंद शम्ओं के भड़कने से सहर होती नहीं

कुछ देर किसी ज़ुल्फ़ के साए में ठहर जाएँ

'क़ाबिल' ग़म-ए-दौराँ की अभी धूप कड़ी है

ज़माना दोस्त है किस किस को याद रक्खोगे

ख़ुदा करे कि तुम्हें मुझ से दुश्मनी हो जाए

पुस्तकें 1

 

चित्र शायरी 4

 

वीडियो 16

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Din pareshaan hai raat bhaari hai

हरिहरण

shauq-e-beintiha na de jana

अज्ञात

Sitaron tum to so jao

नुसरत फ़तह अली ख़ान

Zabt-e-gham ka sila na de jana

हरिहरण

अमजद परवेज़

अज्ञात

साबरी ब्रदर्स

अब ये आलम है कि ग़म की भी ख़बर होती नहीं

भारती विश्वनाथन

तुम न मानो मगर हक़ीक़त है

ज़हीर अहमद वारसी

तुम न मानो मगर हक़ीक़त है

पंकज उदास

वो हर मक़ाम से पहले वो हर मक़ाम के बाद

इक़बाल बानो

सुराही का भरम खुलता न मेरी तिश्नगी होती

साबरी ब्रदर्स

हैरतों के सिलसिले सोज़-ए-निहाँ तक आ गए

अज्ञात

हैरतों के सिलसिले सोज़-ए-निहाँ तक आ गए

गायत्री अशोकन

हैरतों के सिलसिले सोज़-ए-निहाँ तक आ गए

मेहदी हसन

होंटों पे हँसी आँख में तारों की लड़ी है

खुशबू खानम

ऑडियो 10

अब ये आलम है कि ग़म की भी ख़बर होती नहीं

ग़म छेड़ता है साज़-ए-रग-ए-जाँ कभी कभी

तुम न मानो मगर हक़ीक़त है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI