Rehman Musawwir's Photo'

रहमान मुसव्विर

1972 | दिल्ली, भारत

रहमान मुसव्विर

ग़ज़ल 23

अशआर 2

उसे हम पर तो देते हैं मगर उड़ने नहीं देते

हमारी बेटी बुलबुल है मगर पिंजरे में रहती है

  • शेयर कीजिए

मैं बाहर से उचक कर देखता हूँ

मिरे अंदर तमाशा हो रहा है

  • शेयर कीजिए
 

संबंधित शायर

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए