Saba Akbarabadi's Photo'

सबा अकबराबादी

1908 - 1991 | कराची, पाकिस्तान

सबा अकबराबादी

ग़ज़ल 25

शेर 34

अपने जलने में किसी को नहीं करते हैं शरीक

रात हो जाए तो हम शम्अ बुझा देते हैं

  • शेयर कीजिए

इक रोज़ छीन लेगी हमीं से ज़मीं हमें

छीनेंगे क्या ज़मीं के ख़ज़ाने ज़मीं से हम

  • शेयर कीजिए

समझेगा आदमी को वहाँ कौन आदमी

बंदा जहाँ ख़ुदा को ख़ुदा मानता नहीं

  • शेयर कीजिए

ग़लत-फ़हमियों में जवानी गुज़ारी

कभी वो समझे कभी हम समझे

  • शेयर कीजिए

आप के लब पे और वफ़ा की क़सम

क्या क़सम खाई है ख़ुदा की क़सम

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 11

चित्र शायरी 7

 

वीडियो 6

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

सबा अकबराबादी

सबा अकबराबादी

सबा अकबराबादी

सबा अकबराबादी

सबा अकबराबादी

तुझ से दामन-कशाँ नहीं हूँ मैं

सबा अकबराबादी

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI