Safi Lakhnavi's Photo'

सफ़ी लखनवी

1862 - 1950 | लखनऊ, भारत

क्लासिकी के आख़िरी प्रमुख शायरों में अहम नाम। व्यापक लोकप्रियता प्राप्त की

क्लासिकी के आख़िरी प्रमुख शायरों में अहम नाम। व्यापक लोकप्रियता प्राप्त की

सफ़ी लखनवी

ग़ज़ल 7

नज़्म 1

 

अशआर 9

ग़ज़ल उस ने छेड़ी मुझे साज़ देना

ज़रा उम्र-ए-रफ़्ता को आवाज़ देना

  • शेयर कीजिए

जनाज़ा रोक कर मेरा वो इस अंदाज़ से बोले

गली हम ने कही थी तुम तो दुनिया छोड़े जाते हो

  • शेयर कीजिए

मिरी नाश के सिरहाने वो खड़े ये कह रहे हैं

इसे नींद यूँ आती अगर इंतिज़ार होता

  • शेयर कीजिए

पैग़ाम ज़िंदगी ने दिया मौत का मुझे

मरने के इंतिज़ार में जीना पड़ा मुझे

  • शेयर कीजिए

बनावट हो तो ऐसी हो कि जिस से सादगी टपके

ज़ियादा हो तो असली हुस्न छुप जाता है ज़ेवर से

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 15

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए