Sarshar Siddiqui's Photo'

सरशार सिद्दीक़ी

1926 - 2008 | पाकिस्तान

सरशार सिद्दीक़ी

ग़ज़ल 10

नज़्म 4

 

अशआर 7

उजड़े हैं कई शहर, तो ये शहर बसा है

ये शहर भी छोड़ा तो किधर जाओगे लोगो

नींद टूटी है तो एहसास-ए-ज़ियाँ भी जागा

धूप दीवार से आँगन में उतर आई है

मैं ने इबादतों को मोहब्बत बना दिया

आँखें बुतों के साथ रहीं दिल ख़ुदा के साथ

इक कार-ए-मुहाल कर रहा हूँ

ज़िंदा हूँ कमाल कर रहा हूँ

ना-मुस्तजाब इतनी दुआएँ हुईं कि फिर

मेरा यक़ीं भी उठ गया रस्म-ए-दुआ के साथ

पुस्तकें 6

 

संबंधित शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए