Shamim Qasmi's Photo'

शमीम क़ासमी

1954 | सासाराम, भारत

शमीम क़ासमी

ग़ज़ल 12

नज़्म 9

अशआर 3

शहर में अम्न-ओ-अमाँ हो ये ज़रूरी है मगर

हाकिम-ए-वक़त के माथे पे लिखा ही कुछ है

  • शेयर कीजिए

मूए ने मुँह की खाई फिर भी ये ज़ोर ज़ोरी

ये रेख़्ती है भाई तुम रेख़्ता तो जानो

घर में आसेब ज़लज़ले का है

इस लिए ख़ुद में ही सिमट के हैं

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 6

 

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Faza e Nam mein sadao ka shaur ho jaye

शमीम क़ासमी

Hum martaba na samjho rutba mera to jaano

शमीम क़ासमी

Kisi train ke niche kat gaya hota

शमीम क़ासमी

Missi se aur surma o kakul se kya miyan

शमीम क़ासमी

Sabse pehle to arz matla hai

शमीम क़ासमी

Sayyal tasawwur hai-hai ubalne ki tarah ka_

शमीम क़ासमी

Ye aur baat ke gamle mein ug raha hun main

शमीम क़ासमी

ऑडियो 6

किसी ट्रेन के नीचे वो कट गया होता

फ़ज़ा-ए-नम में सदाओं का शोर हो जाए

ये और बात कि गमले में उग रहा हूँ मैं

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"सासाराम" के और शायर

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए