Sheri Bhopali's Photo'

शेरी भोपाली

1902 - 1991 | भोपाल, भारत

शेरी भोपाली

ग़ज़ल 6

अशआर 8

ये बाज़ी मोहब्बत की बाज़ी है नादाँ

इसे जीतना है तो हारे चला जा

  • शेयर कीजिए

बराबर ख़फ़ा हों बराबर मनाएँ

तुम बाज़ आओ हम बाज़ आएँ

  • शेयर कीजिए

मोहब्बत मअ'नी अल्फ़ाज़ में लाई नहीं जाती

ये वो नाज़ुक हक़ीक़त है जो समझाई नहीं जाती

  • शेयर कीजिए

सुनने में रहे हैं मसर्रत के वाक़िआत

जम्हूरियत का हुस्न नुमायाँ है आज-कल

क़यामत है ये कह कर उस ने लौटाया है क़ासिद को

कि उन का तो हर इक ख़त आख़िरी पैग़ाम होता है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 4

 

चित्र शायरी 1

 

"भोपाल" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए