Sikandar Ali Wajd's Photo'

सिकंदर अली वज्द

1914 - 1983 | औरंगाबाद, भारत

सिकंदर अली वज्द

ग़ज़ल 15

नज़्म 2

 

अशआर 7

दिल की बस्ती अजीब बस्ती है

ये उजड़ने के बा'द बस्ती है

  • शेयर कीजिए

जाने वाले कभी नहीं आते

जाने वालों की याद आती है

देर से रही है याद तिरी

क्या तुझे याद रहा हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

बहार आए तो ख़ुद ही लाला नर्गिस बता देंगे

ख़िज़ाँ के दौर में दिलकश गुलिस्तानों पे क्या गुज़री

तमीज़-ए-ख़्वाब-ओ-हक़ीक़त है शर्त-ए-बेदारी

ख़याल-ए-अज़्मत-ए-माज़ी को छोड़ हाल को देख

पुस्तकें 25

वीडियो 3

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

सिकंदर अली वज्द

सिकंदर अली वज्द

ऑडियो 8

कैफ़ जो रूह पे तारी है तुझे क्या मालूम

ख़ुश-जमालों की याद आती है

ख़ुशी याद आई न ग़म याद आए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए