ज़की काकोरवी

ग़ज़ल 7

अशआर 25

अहल-ए-दिल ने किए तामीर हक़ीक़त के सुतूँ

अहल-ए-दुनिया को रिवायात पे रोना आया

  • शेयर कीजिए

याद आए हैं उफ़ गुनह क्या क्या

हाथ उठाए हैं जब दुआ के लिए

  • शेयर कीजिए

तू ही बता दे कैसे काटूँ

रात और ऐसी काली रात

  • शेयर कीजिए

हुस्न जिस हाल में नज़र आया

हम ने उस हाल में परस्तिश की

  • शेयर कीजिए

साफ़ कहिए कि प्यार करते हैं

ये निगाहों का क़ौल-ए-मुबहम क्या

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 29

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए