Ziya Azeemabadi's Photo'

ज़िया अज़ीमाबादी

1880 - 1901

ज़िया अज़ीमाबादी

ग़ज़ल 1

 

अशआर 1

इक टीस जिगर में उठती है इक दर्द सा दिल में होता है

हम रात को रोया करते हैं जब सारा आलम सोता है

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 35

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए