अनोखी रदीफ़ पर ग़ज़लें

कर लिया दिन में काम आठ से पाँच

बासिर सुल्तान काज़मी