Altaf Hussain Hali's Photo'

अल्ताफ़ हुसैन हाली

1837 - 1914 | दिल्ली, भारत

उर्दू आलोचना के संस्थापकों में शामिल/महत्वपूर्ण पूर्वाधुनिक शायर/मिजऱ्ा ग़ालिब की जीवनी ‘यादगार-ए-ग़ालिब लिखने के लिए प्रसिद्ध

उर्दू आलोचना के संस्थापकों में शामिल/महत्वपूर्ण पूर्वाधुनिक शायर/मिजऱ्ा ग़ालिब की जीवनी ‘यादगार-ए-ग़ालिब लिखने के लिए प्रसिद्ध

अल्ताफ़ हुसैन हाली

ग़ज़ल 28

नज़्म 13

अशआर 48

हम जिस पे मर रहे हैं वो है बात ही कुछ और

आलम में तुझ से लाख सही तू मगर कहाँ

फ़रिश्ते से बढ़ कर है इंसान बनना

मगर इस में लगती है मेहनत ज़ियादा

  • शेयर कीजिए

माँ बाप और उस्ताद सब हैं ख़ुदा की रहमत

है रोक-टोक उन की हक़ में तुम्हारे ने'मत

  • शेयर कीजिए

सदा एक ही रुख़ नहीं नाव चलती

चलो तुम उधर को हवा हो जिधर की

  • शेयर कीजिए

होती नहीं क़ुबूल दुआ तर्क-ए-इश्क़ की

दिल चाहता हो तो ज़बाँ में असर कहाँ

हास्य 1

 

रुबाई 18

क़िस्सा 4

 

लेख 10

पुस्तकें 251

चित्र शायरी 4

 

वीडियो 10

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

सत्या मुआसिर

फ़रीदा ख़ानम

सत्या मुआसिर

सत्या मुआसिर

अब वो अगला सा इल्तिफ़ात नहीं

फ़िरदौसी बेगम

आगे बढ़े न क़िस्सा-ए-इश्क़-ए-बुताँ से हम

मेहदी हसन

आलिम ओ जाहिल में क्या फ़र्क़ है

सत्या मुआसिर

मिट्टी का दिया

झुटपुटे के वक़्त घर से एक मिट्टी का दिया अज्ञात

है जुस्तुजू कि ख़ूब से है ख़ूब-तर कहाँ

अज्ञात

है जुस्तुजू कि ख़ूब से है ख़ूब-तर कहाँ

इक़बाल बानो

ऑडियो 8

कब्क ओ क़ुमरी में है झगड़ा कि चमन किस का है

कर के बीमार दी दवा तू ने

ख़ूबियाँ अपने में गो बे-इंतिहा पाते हैं हम

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए