Haidar Ali Aatish's Photo'

हैदर अली आतिश

1778 - 1847 | लखनऊ, भारत

मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन, 19वीं सदी की उर्दू ग़ज़ल का रौशन सितारा।

मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन, 19वीं सदी की उर्दू ग़ज़ल का रौशन सितारा।

हैदर अली आतिश

ग़ज़ल 98

शेर 92

बुत-ख़ाना तोड़ डालिए मस्जिद को ढाइए

दिल को तोड़िए ये ख़ुदा का मक़ाम है

  • शेयर कीजिए

अजब तेरी है महबूब सूरत

नज़र से गिर गए सब ख़ूबसूरत

  • शेयर कीजिए

सनम जिस ने तुझे चाँद सी सूरत दी है

उसी अल्लाह ने मुझ को भी मोहब्बत दी है

पाक होगा कभी हुस्न इश्क़ का झगड़ा

वो क़िस्सा है ये कि जिस का कोई गवाह नहीं

  • शेयर कीजिए

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

कहती है तुझ को ख़ल्क़-ए-ख़ुदा ग़ाएबाना क्या

पुस्तकें 22

वीडियो 10

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
क्या क्या न रंग तेरे तलबगार ला चुके

अज्ञात

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

असद अमानत अली

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

टीना सानी

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

हैदर अली आतिश

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

हामिद अली ख़ान

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

सयान चौधरी

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

शफ़क़त अमानत अली

वहशत-ए-दिल ने किया है वो बयाबाँ पैदा

मेहदी हसन

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

मेहदी हसन

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

बेगम अख़्तर

सुन तो सही जहाँ में है तेरा फ़साना क्या

हैदर अली आतिश

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

अमानत अली ख़ान

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रू-ब-रू करते

हैदर अली आतिश

ऑडियो 9

आइना सीना-ए-साहब-नज़राँ है कि जो था

क्या क्या न रंग तेरे तलबगार ला चुके

काम हिम्मत से जवाँ मर्द अगर लेता है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI