Irshad Khan Sikandar's Photo'

इरशाद ख़ान सिकंदर

1983 | दिल्ली, भारत

नवोदित शायरों में प्रमुख आवाज़

नवोदित शायरों में प्रमुख आवाज़

इरशाद ख़ान सिकंदर

ग़ज़ल 14

अशआर 12

खींच लाई है मोहब्बत तिरे दर पर मुझ को

इतनी आसानी से वर्ना किसे हासिल हुआ मैं

बूढ़ी माँ का शायद लौट आया बचपन

गुड़ियों का अम्बार लगा कर बैठ गई

कल तेरी तस्वीर मुकम्मल की मैं ने

फ़ौरन उस पर तितली कर बैठ गई

रिश्ता बहाल काश फिर उस की गली से हो

जी चाहता है इश्क़ दोबारा उसी से हो

हमीं तुम से हमेशा मिलने आएँ क्यूँ

तुम्हारे पाँव में मेहंदी लगी है क्या

पुस्तकें 1

 

वीडियो 13

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

इरशाद ख़ान सिकंदर

aankho ki dehleez par aa kar baith gai

इरशाद ख़ान सिकंदर

Baandhte shayari mein ho til ko

इरशाद ख़ान सिकंदर

Bahut chup hu ke hoon chaunka hua main

इरशाद ख़ान सिकंदर

Band darwaze khule ruh mein daakhil hua main

इरशाद ख़ान सिकंदर

Bujhe ho, Haath mayusi lagi hai kya

इरशाद ख़ान सिकंदर

Chaaonw afsos daimi na rahi

इरशाद ख़ान सिकंदर

Dil o Nazar mein tere roop ko basata hua

इरशाद ख़ान सिकंदर

Hausla bhale na do udaan ka

इरशाद ख़ान सिकंदर

Rishta bahaal kaash phir uski gali se ho

इरशाद ख़ान सिकंदर

इरशाद ख़ान सिकंदर

Irshad Khan Sikandar is a prominent poet. He is reciting his Ghazal/Nazm at Rekhta Studio. इरशाद ख़ान सिकंदर

इरशाद ख़ान सिकंदर

Irshad Khan Sikandar is a prominent poet. He is reciting his Ghazal/Nazm at Rekhta Studio. इरशाद ख़ान सिकंदर

रिश्ता बहाल काश फिर उस की गली से हो

इरशाद ख़ान सिकंदर

ऑडियो 10

आँखों की दहलीज़ पे आ कर बैठ गई

छाँव अफ़्सोस दाइमी न रही

तिरे कूचे में जो बैठा है पागल

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए