Momin Khan Momin's Photo'

मोमिन ख़ाँ मोमिन

1800 - 1852 | दिल्ली, भारत

ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन। वह हकीम, ज्योतिषी और शतरंज के खिलाड़ी भी थे। कहा जाता है मिर्ज़ा ग़ालीब ने उनके शेर ' तुम मेरे पास होते हो गोया/ जब कोई दूसरा नही होता ' पर अपना पूरा दीवान देने की बात कही थी।

ग़ालिब और ज़ौक़ के समकालीन। वह हकीम, ज्योतिषी और शतरंज के खिलाड़ी भी थे। कहा जाता है मिर्ज़ा ग़ालीब ने उनके शेर ' तुम मेरे पास होते हो गोया/ जब कोई दूसरा नही होता ' पर अपना पूरा दीवान देने की बात कही थी।

मोमिन ख़ाँ मोमिन

ग़ज़ल 51

अशआर 65

तुम मिरे पास होते हो गोया

जब कोई दूसरा नहीं होता

उम्र तो सारी कटी इश्क़-ए-बुताँ में 'मोमिन'

आख़िरी वक़्त में क्या ख़ाक मुसलमाँ होंगे

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि याद हो

वही यानी वादा निबाह का तुम्हें याद हो कि याद हो

तुम हमारे किसी तरह हुए

वर्ना दुनिया में क्या नहीं होता

थी वस्ल में भी फ़िक्र-ए-जुदाई तमाम शब

वो आए तो भी नींद आई तमाम शब

  • शेयर कीजिए

रुबाई 4

 

पुस्तकें 44

चित्र शायरी 16

वीडियो 26

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

ज़मर्रुद बानो

असर उस को ज़रा नहीं होता

अज्ञात

असर उस को ज़रा नहीं होता

पंकज उदास

असर उस को ज़रा नहीं होता

फ़रीदा ख़ानम

असर उस को ज़रा नहीं होता

मोमिन ख़ाँ मोमिन

असर उस को ज़रा नहीं होता

ग़ुलाम अब्बास

असर उस को ज़रा नहीं होता

सुरैया

आँखों से हया टपके है अंदाज़ तो देखो

अज्ञात

ठानी थी दिल में अब न मिलेंगे किसी से हम

ताज मुल्तानी

ठानी थी दिल में अब न मिलेंगे किसी से हम

ख़ुर्शीद बेगम

दफ़्न जब ख़ाक में हम सोख़्ता-सामाँ होंगे

मेहदी हसन

दफ़्न जब ख़ाक में हम सोख़्ता-सामाँ होंगे

मोमिन ख़ाँ मोमिन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

भारती विश्वनाथन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

शांति हीरानंद

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मेहदी हसन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

इक़बाल बानो

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

बेगम अख़्तर

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

शांति हीरानंद

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

उस्बताद बरकत अली ख़ान

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मेहरान अमरोही

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

शांति हीरानंद

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

शांति हीरानंद

हम समझते हैं आज़माने को

मेहदी हसन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

फ़रीदा ख़ानम

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

फ़िरोज़ा बेगम

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

हरिहरण

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

आबिदा परवीन

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

मोमिन ख़ाँ मोमिन

ऑडियो 15

असर उस को ज़रा नहीं होता

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित ब्लॉग

 

संबंधित शायर

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए