Mustafa Shahab's Photo'

मुस्तफ़ा शहाब

इंग्लैंड

मुस्तफ़ा शहाब

ग़ज़ल 21

अशआर 22

ज़ेहन में याद के घर टूटने लगते हैं 'शहाब'

लोग हो जाते हैं जी जी के पुराने कितने

  • शेयर कीजिए

ऐसा भी कभी हो मैं जिसे ख़्वाब में देखूँ

जागूँ तो वही ख़्वाब की ताबीर बताए

  • शेयर कीजिए

गो तर्क-ए-तअल्लुक़ में भी शामिल हैं कई दुख

बे-कैफ़ तअल्लुक़ के भी आज़ार बहुत हैं

  • शेयर कीजिए

कहा था मैं ने खो कर भी तुझे ज़िंदा रहूँगा

वो ऐसा झूट था जिस को निभाना पड़ गया है

  • शेयर कीजिए

मैं सच से गुरेज़ाँ हूँ और झूट पे नादिम हूँ

वो सच पे पशेमाँ है और झूट पर आमादा

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 4

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए