Muztar Haidri's Photo'

मुज़्तर हैदरी

1920 - 1975 | कोलकाता, भारत

ख़ुशनुमा तरन्नुम के लिए मशहूर

ख़ुशनुमा तरन्नुम के लिए मशहूर

मुज़्तर हैदरी

ग़ज़ल 1

 

अशआर 10

ख़ुलूस हो तो कहीं बंदगी की क़ैद नहीं

सनम-कदे में तवाफ़-ए-हरम भी मुमकिन है

  • शेयर कीजिए

कोई भी शक्ल मुकम्मल किताब बन सकी

हर एक चेहरा यहाँ इक़्तिबास जैसा है

  • शेयर कीजिए

महफ़िल में उन की खुल गया दिल का मुआमला

पलकों पे अश्क रह गए पीने के ब'अद भी

  • शेयर कीजिए

झुकी झुकी जो है कड़वी-कसीली नीम की शाख़

उसी पे शहद का छत्ता दिखाई देता है

  • शेयर कीजिए

कल रात मिरे दिल ने फिर चुपके से पूछा है

'मुज़्तर' तिरी आहों में आएगा असर कब तक

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

 

"कोलकाता" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए