Qalaq Merathi's Photo'

क़लक़ मेरठी

1832/3 - 1880

क़लक़ मेरठी

ग़ज़ल 42

अशआर 51

तुझ से ज़िंदगी घबरा ही चले थे हम तो

पर तशफ़्फ़ी है कि इक दुश्मन-ए-जाँ रखते हैं

  • शेयर कीजिए

तू है हरजाई तो अपना भी यही तौर सही

तू नहीं और सही और नहीं और सही

  • शेयर कीजिए

ज़ुलेख़ा बे-ख़िरद आवारा लैला बद-मज़ा शीरीं

सभी मजबूर हैं दिल से मोहब्बत ही जाती है

  • शेयर कीजिए

हो मोहब्बत की ख़बर कुछ तो ख़बर फिर क्यूँ हो

ये भी इक बे-ख़बरी है कि ख़बर रखते हैं

  • शेयर कीजिए

बोसा देने की चीज़ है आख़िर

सही हर घड़ी कभी ही सही

  • शेयर कीजिए

रुबाई 69

पुस्तकें 8

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए