Sahir Lakhnavi's Photo'

साहिर लखनवी

1935 - 2019 | कराची, पाकिस्तान

साहिर लखनवी

ग़ज़ल 1

 

अशआर 3

क्यूँ मेरी तरह रातों को रहता है परेशाँ

चाँद बता किस से तिरी आँख लड़ी है

  • शेयर कीजिए

मंज़िलें पाँव पकड़ती हैं ठहरने के लिए

शौक़ कहता है कि दो चार क़दम और सही

  • शेयर कीजिए

कल तो इस आलम-ए-हस्ती से गुज़र जाना है

आज की रात तिरी बज़्म में हम और सही

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 5

 

संबंधित शायर

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए