सोशल डिस्टेन्सिंग शायरी पर नज़्में

नज़्म

घरों में रहिए

सय्यद फ़ाख़िर रिज़वी
बोलिए