noImage

आदिल ज़ैदी

आदिल ज़ैदी

नज़्म 3

 

शेर 6

मात खाई है अक्सर शाह ने प्यादे से

फ़र्क़ कुछ नहीं पड़ता ताज और लिबादे से

  • शेयर कीजिए

हाल पूछते क्या हो क़िस्सा मुख़्तसर ये है

घर बन सका अब तक जो मकाँ बनाया था

  • शेयर कीजिए

अपने रस्म-ओ-रिवाज खो बैठे

बाक़ी अब ख़ानदान में क्या है

  • शेयर कीजिए

ये सहन-ए-अर्ज़-ए-हरम है ब-एहतियात क़दम

बहुत क़रीब ख़ुदा है ज़रा सँभल के चलो

  • शेयर कीजिए

जब भी आँख लगे मैं देखूँ एक सुहानी सूरत

देवी थी वो रूप की रानी या पत्थर की मूरत

  • शेयर कीजिए

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI