Ibrahim Ashk's Photo'

इब्राहीम अश्क

1951 | मुंबई, भारत

फिल्म 'कहो ना प्यार है' के गीतों के लिए मशहूर।

फिल्म 'कहो ना प्यार है' के गीतों के लिए मशहूर।

इब्राहीम अश्क

ग़ज़ल 18

अशआर 19

बिखरे हुए थे लोग ख़ुद अपने वजूद में

इंसाँ की ज़िंदगी का अजब बंदोबस्त था

तिरी ज़मीं से उठेंगे तो आसमाँ होंगे

हम ऐसे लोग ज़माने में फिर कहाँ होंगे

ख़ुद अपने आप से लेना था इंतिक़ाम मुझे

मैं अपने हाथ के पत्थर से संगसार हुआ

करें सलाम उसे तो कोई जवाब दे

इलाही इतना भी उस शख़्स को हिजाब दे

दुनिया बहुत क़रीब से उठ कर चली गई

बैठा मैं अपने घर में अकेला ही रह गया

दोहा 3

प्यासी धरती देख के बादल उड़ उड़ जाए

ये दुनिया की रीत है तरसे को तरसाए

  • शेयर कीजिए

पत्थर में भी आग है छेड़ो तो जल जाए

जो इस आग में तप गया वो हीरा कहलाए

  • शेयर कीजिए

मन के अंदर पी बसे पी के अंदर प्रीत

ख़ुद में इतना डूब जा मिल जाएगा मीत

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 17

वीडियो 17

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
At a mushaira

इब्राहीम अश्क

At a mushaira

इब्राहीम अश्क

At Abu Dhabi Mushaira

इब्राहीम अश्क

At Datia Mushaira

इब्राहीम अश्क

Main khwabon me to dariya dekhta hoon

इब्राहीम अश्क

Nazm Kachcha Ghar recited by Ibrahim Ashk

इब्राहीम अश्क

Reciting his own nazm

इब्राहीम अश्क

Reciting his own Nazm - Aakhri Khat

इब्राहीम अश्क

Reciting his own Nazm - Maa

इब्राहीम अश्क

Reciting own poetry

इब्राहीम अश्क

Reciting own poetry

इब्राहीम अश्क

Ibrahim Ashk

इब्राहीम अश्क

संबंधित शायर

"मुंबई" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए